Know about Top Mata Mandir Udaipur

Top Mata Mandir - देवी के रूप में पूजी जाती है तोप, Top Mata Mandir - Cannon is worshipped as goddess

क्या आपने किसी तोप की देवी माता के रूप में पूजा होते देखी है? क्या आपने किसी तोप के लिए मंदिर बना हुआ देखा है? जहाँ तक हमें लगता है, आपने ऐसा नहीं देखा है.

आज हम आपको बताएँगे कि ऐसा कहाँ पर होता है. दरअसल उदयपुर शहर के अन्दर एक ऐसी जगह है जहाँ पर तोप को देवी माता का रूप मानकर पूजा की जाती है.

ये जगह है उदयपुर शहर में रेल्वे स्टेशन के सामने एक बुर्ज के ऊपर बनी हुई छतरी है. इस बुर्ज को तोपमाता बुर्ज के नाम से जाना जाता है. तोप की नियमित पूजा अर्चना होने की वजह से अब इसे तोपमाता मंदिर के नाम से जाना जाने लगा है.

यहाँ पर जाने के लिए आपको रेलवे स्टेशन के सामने बने हुए परकोटे के अन्दर जाना होगा. अन्दर जाने की लिए परकोटे की मोटी दीवार में एक रास्ता बना हुआ है जिसमे पैदल या बाइक से जाया जा सकता है.

अन्दर जाते ही लेफ्ट साइड में बुर्ज के ऊपर मंदिर की तरफ जाने का दरवाजा बना हुआ है. मुख्य दरवाजा बंद रहता है इसलिए बगल में सीढ़ियों युक्त छोटा दरवाजा बना हुआ है.

Topmata Temple Timings

मंदिर सामान्यतया शाम के वक़्त ही खुलता है लेकिन अगर कोई दिन में भी जाना चाहे तो मंदिर के पुजारी रवी के घर से चाबी ले सकता है. पुजारी का घर दरवाजे की राईट साइड में पास में ही है. परकोटे से बुर्ज की तरफ जाने पर बुर्ज के ऊपर छतरी बनी हुई दिखाई देती है.

यह छतरी बुर्ज के निर्माण के बहुत बाद में बनाई गई है. इस छतरी के चारों तरफ चार मजबूत स्तम्भ बने हुए हैं. ऐसा बताया जाता है कि प्राचीन समय में यह तोप इन स्तंभों पर टिकी हुई थी और इसे जरूरत के मुताबिक चारों तरफ घुमाया जा सकता था.

बुर्ज से परकोटे के सहारे एक रास्ता सूरजपोल की तरफ तो दूसरा रास्ता माछला मगरा की तरफ जा रहा है. अब जगह-जगह लोगों के रहने की वजह से ये रास्ता छोटा और समाप्त सा हो गया है.

Length of the Cannon

वर्तमान में छतरी के नीचे एक 30 फ़ीट लम्बाई की तोप रखी हुई है. इस तोप को मेवाड़ की सबसे बड़ी तोप के साथ-साथ चार सौ वर्षों से भी अधिक प्राचीन बताया जाता है.

इस तोप की नियमित रूप से पूजा अर्चना और आरती होती है. शक्ति रुपी तोप को चुनरी ओढ़ाई हुई है और इसके पास में त्रिशूल लगा हुआ है. छतरी और नीचे चारों तरफ चढ़े हुए नारियल बंधे हुए हैं.

इस तोप की सबसे बड़ी खासियत तो इसकी पूजा होना है, इसकी दूसरी बड़ी खासियत यह है कि ये तोप बीच में से आधी कटी हुई है. ऐसा कहा जाता है कि किसी समय इस कटे हुए भाग में से रक्त बहा करता था.

Also Read Karni Mata Rats Temple - सफेद चूहों वाला मंदिर

पुजारी रवी के अनुसार इस जगह पर कई बार नाग नागिन का जोड़ा भी दिखाई दिया है जिस वजह से बहुत से लोग यहाँ आने से डरते है, लेकिन इस जोड़े की वजह से आज तक किसी का कोई नुकसान नहीं हुआ है. नवरात्रों के समय इस स्थान पर काफी भीड़ रहती है.

अगर आप इस अनूठे स्थान को देखना चाहते हैं तो आप उदयपुर की ऐतिहासिक तोपमाता बुर्ज के ऊपर स्थित तोपमाता के मंदिर में जाएँ.

Also Watch Video below

Written By

ramesh sharma

Ramesh Sharma (M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS)

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार Khatu.org के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति Khatu.org उत्तरदायी नहीं है.

Connect With Us on YouTube

SMPR City
Ramesh Sharma