Ambrai Ghat Udaipur

Ambrai Manji Ghat - रोज शाम को जमती है संगीत की महफिल, Ambrai Manji Ghat - Every Evening Gathering for Musical Joy

उदयपुर के प्रसिद्ध घाटो के क्रम में हमने गणगौर घाट की बात तो कर ली, आज हम अमराई घाट के बारे में बात करेंगे.

अमराई घाट गणगौर घाट के सामने बाँई तरफ पिछोला के आखिरी छोर पर स्थित है. गणगौर घाट से इस घाट पर पैदल जाने के लिए आपको दाइजी पुल पर से जाना होता है.

दाइजी पुल एक फुट ओवर ब्रिज है. इस ओवर ब्रिज पर से पिछोला झील के दोनों तरफ का हिस्सा बड़ा आकर्षक दिखाई देता है. अगर आप किसी व्हीकल से जाना चाहते हैं तो आपको चांदपोल वाले ब्रिज को पार करके जाना होगा.

Ambrai Ghat also known as Amrai or Manji or Manjhi ghat

अमराई घाट को ही माँझी या माँजी का घाट कहा जाता है, लेकिन पास में अमराई होटल की वजह से इसे अमराई घाट के नाम से ज्यादा जाना जाता है. यह घाट गणगौर घाट से एकदम अलग है. यहाँ पर ना तो कोई दरवाजा है और ना ही गणगौर घाट के त्रिपोलिया की तरह कोई ऐतिहासिक विरासत है.

यहाँ पर देवस्थान विभाग द्वारा संचालित एक आत्मनिर्भर मंदिर बना हुआ है. इस मंदिर को सरदार स्वरुप श्याम जी यानि माँझी का मंदिर कहा जाता है. माँजी के मंदिर की वजह से ही इस घाट को माँझी का घाट कहा जाता है.

इस घाट पर अंतिम संस्कार के बाद होने वाले स्नान, पूजा और सर मुंडन जैसे कार्यक्रम होते आये हैं. संभवतः इस वजह से ही यहाँ पर कोई धरोहरे नहीं है.

इस घाट से सूर्योदय और सूर्यास्त का नजारा बड़ा सुन्दर दिखाई देता है. यह घाट मुख्यतया युवावर्ग की पसंदीदा जगह है. शाम के समय यहाँ पर युवाओं का हुजूम उमड़ पड़ता है. अक्सर ये लोग गिटार के साथ गाना गाते दिख जाते हैं.

सांस्कृतिक रूप से इस घाट का महत्व इतना ज्यादा है कि उदयपुर में होने वाले वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल के वेन्यूज में अक्सर एक वेन्यू ये भी होता है. घाट पर पिछोला का पानी हिलोरे मारता रहता है. इस पानी में पैर डालकर बैठना बड़ा अच्छा लगता है.

घाट से पूरी पिछोला झील दिखाई देती है. इस घाट से दाइजी पुल, गणगौर घाट, बागोर की हवेली, सिटी पैलेस का पिछला भाग, लेक पैलेस और लीला पैलेस होटल आदि दिखाई देते हैं.

Also Read Pratap Memorial Moti Magari - हल्दीघाटी के योद्धाओं के स्मारक

मंदिर के बगल वाले हिस्से में एक गार्डन बना हुआ है. इस गार्डन और अमराई घाट पर जगह-जगह ऐसे पॉइंट्स हैं जो फोटोग्राफी के लिए परफेक्ट है. कुछ महीनों पहले तक इस घाट पर एंट्री फ्री थी लेकिन अब यहाँ आने के लिए देवस्थान विभाग ने एंट्री टिकट शुरू कर दिया गया है.

भारतीय पर्यटकों के लिए टिकट की प्राइस दस रूपए और विदेशी पर्यटकों के लिए टिकट की कीमत पचास रूपए रखी गई है. अगर आप उदयपुर की यात्रा पर हैं तो समय निकालकर आपको इस घाट की प्राकृतिक खूबसूरती को एक बार जरूर देखना चाहिए.

Also Watch Video below

Written By

ramesh sharma

Ramesh Sharma (M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS)

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार Khatu.org के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति Khatu.org उत्तरदायी नहीं है.

Connect With Us on YouTube

Travel Guide
Health Show