jai ho maa bharti main hun vidyarthi poetry

जय हो माँ भारती मैं हूँ विद्यार्थी - हिंदी कविता, Jai Ho Maa Bharti Main Hun Vidyarthi - Hindi Kavita

जय हो माँ भारती
मैं हूँ विद्यार्थी
आया शरण में तेरी
अरज तू सुन ले मेरी
देखते देखते साल चला गया
जाते जाते मुझको जला गया
इस साल मैं पढ़ ना पाया
मजे भी कर ना पाया
अब बेडा पार लगा दे माँ
मुझको पास करा दे माँ

जय हो माँ भारती
मैं हूँ विद्यार्थी
किससे करूँ मेरे मन की बात
दोस्त भी माथा पकडे रोये दिन रात
मैंने बोला यार मैं तो पढ़ नहीं पाया
वो बोला यार मैं भी पढ़ नहीं पाया
सारे बोले यार हम तो पढ़ नहीं पाए
कोरस में सारे रोये हाये हाये
हाये को याहू में बदलवा दे माँ
मुझको पास करा दे माँ

जय हो माँ भारती
मैं हूँ विद्यार्थी
लगा था इस साल भी
प्रमोट हो जाऊंगा
बिना पढ़े लिखे ही
पास हो जाऊँगा
अगर एग्जाम हुई
कुछ भी लिख नहीं पाऊंगा
मुझको प्रमोट करा दे माँ
मुझको पास करा दे माँ

Also Read भारत की शान, हमारा तिरंगा - हिंदी कविता

जय हो माँ भारती
मैं हूँ विद्यार्थी
अगर एग्जाम हुई
डब्बा गोल हो जायेगा
तेरा ये पक्का भक्त
कहाँ मुँह छुपायेगा
दंडवत प्रणाम करके
नारियल चढाऊंगा
अगरबत्ती जलाऊंगा
भक्ति की शक्ति दिखा दे माँ
मुझको पास करा दे माँ

जय हो माँ भारती
मैं हूँ विद्यार्थी
जय हो माँ भारती
मैं हूँ विद्यार्थी ...

Jai Ho Maa Bharti Main Hun Vidyarthi Poem in English

jai ho maa bharti
main hun vidyarthi
aaya sharan me teri
araj tu sun le meri
dekhte dekhte saal chala gaya
jaate jaate mujhko jala gaya
is saal main padh naa paya
maje bhi kar naa paya
ab beda paar laga de maa
mujhko paas kara de maa

jai ho maa bharti
main hun vidyarthi
kisse karun mere man ki baat
dost bhi maatha pakade roye din raat
maine bola yaar main to padh nahi paya
vo bola yaar main bhi padh nahi paya
saare bole yaar ham to padh nahi paye
corus me sare roye haye haye
haye ko yahuu me badalwa de maa
mujhko paas kara de maa

jai ho maa bharti
main hun vidyarthi
laga tha is saal bhi
promote ho jaunga
bina padhe likhe hi
paas ho jaunga
agar exam hui to
kuchh bhi likh nahi paunga
mujhko promote kara de maa
mujhko paas kara de maa

jai ho maa bharti
main hun vidyarthi
agar exam hui
dabba gol ho jayega
tera ye pakka bhakt
kahan munh chhupayega
dandvat pranam karke
nariyal chadhaaunga
agarbatti jalaunga
bhakti ki shakti dikha de maa
mujhko paas kara de maa

jai ho maa bharti
main hun vidyarthi
jai ho maa bharti
main hun vidyarthi ...

Written By

ramesh sharma

Ramesh Sharma (M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS)

Disclaimer

कविता में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार Khatu.org के नहीं हैं. कविता में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति Khatu.org उत्तरदायी नहीं है.

Connect With Us on YouTube

Travel Guide
Health Show