career in information technology

इनफार्मेशन और कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी में करियर, Career in Information and Communication Technology

देश में 4 जी तकनीक के प्रवेश के साथ ही डाटा इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या में यकायक ही भारी इजाफा देखने को मिला है जिसकी वजह डाटा की खपत में भी बहुत बढ़ोतरी हुई है। स्मार्टफोन की बढ़ती लोकप्रियता तथा सस्ती दरों पर इसकी उपलब्धता ने इस डाटा खपत को बढ़ाने में आग में घी का काम किया है।

एसोचैम और केपीएमजी द्वारा साझा रूप से की गई स्टडी के निष्कर्ष के मुताबिक 2021 के अंत तक देश में कुल पौने नौ लाख प्रोफेशनल्स की आवश्यकता होगी। इन प्रोफेशनल्स में एप्प डेवलपर, हैंडसेट टेक्नीशियन, साइबर सिक्यूरिटी एक्सपर्ट, सेल्स तथा मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव्स, आदि प्रमुख हैं।

Telecom is booming sector in India

टेलिकॉम क्षेत्र में उपभोक्ताओं की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है जिसके कारण कुल डाटा खपत भी उसी अनुपात में बढ़ रही है। इन्टरनेट का दिन दुगना रात चौगुना उपयोग इस क्षेत्र में व्यापार के नए-नए विकल्प उपलब्ध करवा रहा है।

इनफार्मेशन एंड कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी (ICT) तथा स्मार्टफोन के बढ़ते प्रयोग की वजह से मोबाइल फोन क्रांतिकारी बदलाओं के साथ बाजार में उतारे जा रहे हैं।

स्मार्टफोन में नए-नए फीचर्स जोड़े जा रहे हैं जिनमे से सबसे महत्वपूर्ण फीचर है नई-नई एप्प का होना। हर किसी चीज की एप्प बने जा रही है तथा लोग एप्प के प्रति दीवाने होते जा रहे हैं।

एप्प डेवलपमेंट में करियर बनाने के बहुत से रास्ते खुल रहे हैं। आज मुख्तया एंड्राइड, आईओएस, तथा विंडोज के लिए ही एप्प बनाई जा रही है और इनमे भी मुख्तया एंड्राइड प्लेटफार्म का ही एकाधिकार है। इन अलग-अलग प्लेटफॉर्म्स के लिए अलग-अलग लैंग्वेजेज का ज्ञान होना आवश्यक है जैसे सी, सी ++, जावा आदि।

कंप्यूटर साइंस या सॉफ्टवेर में इंजीनियरिंग करने वाले विद्यार्थी इस क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं। हैंडसेट टेक्नीशियन के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर मेंटेनेंस से लेकर हैंडसेट मैन्युफैक्चरिंग तक में नौकरी के अवसर मौजूद होते हैं।

दसवीं के बाद तीन वर्षीय डिप्लोमा करके भी इस लाइन में करियर बनाया जा सकता है। अगर टेलीकम्यूनिकेशन में बैचलर डिग्री लेनी हो तो फिजिक्स, केमिस्ट्री तथा मैथ्स विषयों के साथ बारहवीं उत्तीर्ण करना आवश्यक होता है।

हैकर्स के डर के कारण सभी कंपनियों के लिए साइबर सिक्यूरिटी बहुत आवश्यक बन गई है। साइबर सिक्यूरिटी एक्सपर्ट का प्रमुख कार्य किसी भी कंपनी के कंप्यूटर सिस्टम तक हैकर्स की पहुँच को रोक कर सिस्टम तथा डाटा की सिक्यूरिटी को सुनिश्चित करना है।

सिक्यूरिटी एक्सपर्ट को सॉफ्टवेर डिजाइनिंग तथा नेटवर्क डोमेन की गहनता से सम्पूर्ण जानकारी होना जरूरी होता है। कंप्यूटर साइंस या सॉफ्टवेर में इंजीनियरिंग करने के पश्चात इस क्षेत्र में विशेषज्ञता प्राप्त की जा सकती है।

हर क्षेत्र की कंपनियों को अपने व्यापार में वृद्धि के लिए सेल्स तथा मार्केटिंग प्रोफेशनल्स की आवश्यकता होती है। इस क्षेत्र में नई-नई कंपनियों के आने की वजह से इन प्रोफेशनल्स की मांग भी बढ़ने का अनुमान है।

सेल्स या मार्केटिंग के लिए बीबीए या फिर एमबीए डिग्री धारी विद्यार्थियों की आवश्यकता होने के कारण उनकी मांग में इजाफा होने का प्रबल अनुमान है। कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि इनफार्मेशन एंड कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में प्रोफेशनल्स के लिए अपार संभावनाएँ बन रही हैं।

Written By

ramesh sharma

Ramesh Sharma {M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS}

Disclaimer

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं और इस में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई हो सकती है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. लेख की कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार Khatu.org के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति Khatu.org उत्तरदायी नहीं है.

आलेख की जानकारी को पाठक महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी. अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

Connect With Us on YouTube

Travel Guide
Khatu Blog
Khatu Darshan